Posts

Featured post

सबूत* लँका से वापस आकर हनुमानजी प्रभु श्रीराम से कह रहे थे-

Image
सबूत*

लँका से वापस आकर हनुमानजी प्रभु श्रीराम से कह रहे थे-
*"प्रभु! मैं लंका जला कर आ रहा हूँ।"
प्रभु कुछ कहते उसके पहले ही कुछ दिशाहीन उछलू बन्दरोँ ने पूछा-
*"हनुमान! तुम जलाने का कोई सामान तो ले नहीं गए थे, फिर लंका जलाई कैसे?"*

हनुमानजी ने कहा-

*" तेल और घी भी उनका था, कपडे़ भी उनके थे, माचिस भी उनकी थी और मैंने लँका जलाई भी उनकी।"*

दिशाहीन उछलू बन्दरों ने पुनः पूछा-

*" कोई प्रमाण है तुम्हारे पास कि तुमने वास्तव में लंका जलाई? बिना सबूत के हम कैसे मान लें कि तुमने लंका जलाई।"*
जामवन्त ने कहा-
*"मैंने इसपार से जलती लंका की लपटेँ स्वयं देखी हैं। राक्षसों की चीख की पुकार भी सुनी थी। मैंने केमरे में सब रिकार्ड भी किया है। लो! देख लो।"*

दिशाहीन बन्दरों ने कहा-

*"यह तो होलीका प्रज्वलन की लपटेँ भी हो सकती हैं। बिना प्रमाण के हम नहीं मान सकते कि हनुमान ने लँका जलाई।"*
हनुमानजी ने कहा-
*"यह देखो! मेरा कोपीन अभी भी आग के ताप से तप्त है। जली लँका की राख अभी भी इसमें लगी हुई है।"*

लेकिन दिशाहीन बन्दर उछलकूद करते रहे, सबूत माँगते रहे।

उधर …

2019 में होगा दुनिया का सबसे महंगा लोकसभा चुनाव, तोड़ देगा खर्च का रिकॉर्ड

Image
2019 में होगा दुनिया का सबसे महंगा लोकसभा चुनाव, तोड़ देगा खर्च का रिकॉर्ड 



 ------राजकुमार अग्रवाल ---



 कैथल : लोकसभा चुनाव 2019 की डुगडुगी बज गई है। चुनाव आयोग ने रविवार को इसका एलान कर दिया। सात चरणों में होने वाले इस चुनाव का पहला चरण 11 अप्रैल से शुरू होगा और आखिरी चरण 19 मई को समाप्त होगा। नतीजों की घोषणा 23 मई को होगी। इस बार का लोकसभा चुनाव खर्च के मामले में सबसे महंगा होने जा रहा है। इसका बजट अमेरिकी राष्ट्रपति के चुनाव से भी ज्यादा होने वाला है। अमेरिका स्थित एक चुनाव विशेषज्ञ ने कहा है कि भारत में आगामी आम चुनाव भारत के इतिहास में और किसी भी लोकतांत्रिक देश के सबसे खर्चीले चुनावों में से एक होगा। 'कारनीज एंडोमेंट फोर इंटरनेशनल पीस थिंकटैंक' में सीनियर फेलो तथा दक्षिण एशिया कार्यक्रम के निदेशक मिलन वैष्णव ने पीटीआई-भाषा को बताया कि 2016 में हुए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव तथा कांग्रेस चुनावों में 46,211 करोड़ रुपये (6.5 अरब अमेरिकी डॉलर) का खर्च आया था। अगर भारत में
तो 2019 के चुनाव में यह आंकड़ा आसानी से पार हो सकता है, ऐसा हुआ तो यह दुनिया का सबसे खर्चीला चुनाव साबित …

लोकसभा चुनाव का खूब मजा दो महीने कटेंगे लोगों के चुनावी रंगत में दिन

Image
बहुकोणीय मुकाबले में मतदाता लेंगे कैथल --राजकुमार अग्रवाल - हरियाणा में अब तक प्रमुख पाटियों में नहीं बन पाया गठबंधन देश के सियासी महाभारत के लिए दुंदभी बज गई है। हरियाणा में इस दफा मतदान 12 मई को होगा। लिहाजा प्रदेश की जनता चुनाव का खूब मजा लूटेगी। स्वाद यह भी रहेगा कि गेहूं की कटाई का काम पहले ही आसानी से पूरा हो जाएगा। लिहाजा किसान उम्मीदवारों की गाडिय़ों में खूब घूमेंगे। तब तक कामकाज की चिंता दूर हो जाएगी। गाडिय़ां में बिठाने वालों की इस बार किसी तरह की कोई कमी रहने वाली नहीं है। कारण है कि इस बार हरियाणा में चुनाव की तस्वीर बहुकोणीय बनी हुई है। लोकसभा चुनाव में नए दल भी ताल ठोक रहे हैं। ऐसे में कई दल चुनाव में उतरने से प्रचारक भी बांटे-बांटे सर आएंगे। अभी तक हरियाणा में प्रमुख दलों का गठबंधन सिरे नहीं चढ़ा है। कारण है कि मौजूदा सत्तारुढ़ पार्टी भाजपा पूरे कांफिडेंस में है कि लोकसभा चुनाव में अकेले दम पर जीत लेंगे। प्रदेश की पांच नगर निगम में हुए मेयर चुनाव और जींद उप चुनाव में मिली जीत से पार्टी के आत्म विश्वास के खूब पंख लग रहे हैं। हालांकि इनेलो लोकसभा में भाजपा से गठबंधन …

हरियाणा विधानसभा चुनाव लोकसभा चुनाव साथ न करवा कर भाजपा ने विपक्ष को सम्भालने का दिया एक बड़ा मौका

Image
हरियाणा विधानसभा चुनाव लोकसभा चुनाव साथ न करवा कर भाजपा ने विपक्ष को सम्भालने का दिया एक बड़ा मौका

जींद उपचुनाव की जीत के बाद जोश से भरी भाजपा ने लोकसभा और विधानसभा चुनाव में सीटों की जीत का बदला लक्ष्य

मुख्यमंत्री का विश्वास: आने वाले महीनों में भाजपा के लिए माहौल ओर अधिक अच्छा होगा

कांग्रेसी नेता चुनाव जीत के लिए नहीं प्रदेश अध्यक्ष को हटाने में लगा रही है ताकत

ईश्वर धामु

चंडीगढ़।  हरियाणा विधानसभा चुनाव लोकसभा चुनाव के साथ न होने की घोषणा के साथ विपक्षी पार्टियों ने राहत की सांस ली है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर चाहे यह कहें कि भाजपा में लोकसभा और विधानसभा चुनाव साथ करवाएं जाने की हिम्मत नहीं है। परन्तु हकीकत यह है कि भाजपा ने लोकसभा के साथ हरियाणा विधानसभा चुनाव न करवा कर सभी विपक्षी दलों, विशेष कर कांग्रेस को सम्भलने का एक बड़ा मौका दिया है। हालांकि कांग्रेस पार्टी के नेता बार बार यह कहते रहे हैं कि पार्टी चुनावों के लिए तैयार है। पर ये सभी जानते हैं कि कांग्रेस को कितने बड़े आंतरिक कलह और बिखराव का सामना करना पड़ रहा है। पार्टी का दुर्भाज्य है कि लोकसभा और विधानसभा के…

पढ़े क्या था ---पत्रकार हत्या मामला जिसमे सिरसा डेरा प्रमुख सहित 4 को कोर्ट ने दोषी करार दिया गया

Image
पत्रकार हत्या मामले में राम रहीम समेत 4 दोषी करार,17 को सुनाई जाएगी सजा अक्टूबर 2002 में पत्रकार रामचंद्र छत्रपति पर हुआ था हमला,एक महीने बाद हुई मौत  जिस रिवॉल्वर से गोलियां चलाई थीं,लाइसेंस डेरा के मैनेजर कृष्ण लाल के नाम पर साध्वी यौन शोषण मामले में 20 साल की सजा काट रहा राम रहीम चंडीगढ़ (अटल हिन्द न्यूज ) atalhind@gmail.com   9416111503 पंचकूला- सिरसा के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मामले में शुक्रवार को सीबीआई की विशेष अदालत ने राम रहीम समेत चार को दोषी करार दिया। 17 जनवरी को चारों को सजा सुनाई जाएगी। 2 जनवरी को सीबीआई कोर्ट ने 16 साल पुराने इस मामले के आरोपी गुरमीत राम रहीम, निर्मल,कुलदीप और कृष्ण लाल को कोर्ट में पेश होने के आदेश दिए थे। फैसला जज जगदीप सिंह ने सुनाया। उन्होंने ही साध्वी यौन शोषण मामले में राम रहीम को सजा सुनाई थी। जज जगदीप सिंह ने करीब तीन बजे अपना फैसला सुनाया। अदालत सजा पर फैसला 17 जनवरी को सुनाएगी। गुरमीत अभी साध्वी दुष्कर्म मामले में रोहतक की सुनारिया जेल में 20 कैद की सजा काट रहा है। गुरमीत के साथ कृष्ण लाल,कुलदीप और निर्मल सिंह को दोषी करार दिया ग…

गांधी परिवार के नजदीक रहे सज्जन सियासी पारी पर सिख दंगों का ग्रहण

Image
गांधी परिवार के नजदीक रहे सज्जन
सियासी पारी पर सिख दंगों का ग्रहण
कैथल (राजकुमार अग्रवाल )। 1984 के सिख दंगों की चर्चा चलते ही कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता सज्‍जन कुमार का नाम जुबान पर आ जाता है। आज द‍िल्‍ली हाई कोर्ट ने सज्‍जन कुमार को सिख दंगों के लिए दोषी करार दिया। हालांकि, सज्जन कुमार को 2013 में निचली अदालत ने छोड़ दिया था।
उन पर इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सिखों के खिलाफ भड़के दंगों को उकसाने और दंगाइयों को राजनीतिक संरक्षण देने का आरोप था। सीबीआई ने सज्जन कुमार और चार अन्य लोगों पर सिख विरोधी दंगों में छह लोगों की हत्या करने का आरोप लगाया था। लेकिन आप जानते हैं ये सज्‍जन कुमार कौन है। इनके तीन दशकों का सियासी सफर कैसा रहा। उनके नाम से कौन से रिकार्ड है।
संजय गांधी के करीबी रहे सज्‍जन
दिल्‍ली की राजनीति में सज्‍जन कुमार एक बड़ा नाम है। उनकी तीन दशकों की लंबी सियासी पारी बड़ी उतार-चढ़ाव वाली रही। दिल्‍ली में पार्षद का चुनाव लड़कर उन्‍होंने अपने करियर की शुरुआत की। उन्होंने बाहरी दिल्ली के मादीपुर इलाके से नगर निगम का चुनाव लड़ा और 1977 में जीतकर पार्षद बन गए। 1970 के दशक में उनक…

30 साल का लड़का प्रदेश की राजनीति में बहुत धमाकेदार एंट्री मार गया ,दुष्यंत ने चाचा अभय को जींद में दी मात

Image
30 साल का  लड़का प्रदेश की राजनीति में बहुत धमाकेदार एंट्री मार गया ,दुष्यंत ने चाचा अभय को जींद में  दी मात 

-----राजकुमार अग्रवाल ----
चंडीगढ़ । हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला ने 30 साल की उम्र में जींद की धरती पर 32 साल पुराने इतिहास को रविवार को दोहरा दिया। 32 साल पहले उनके परदादा चौधरी देवीलाल ने जींद की धरती पर ऐतिहासिक समस्त हरियाणा सम्मेलन किया था। अब 32 साल बाद उनके परपोते सांसद दुष्यंत चौटाला ने समस्त हरियाणा सम्मेलन में उसी अंदाज में अपार जुटाकर साबित कर दिया कि जनता में पैठ हो तो राजनीतिक नंबरदारी के लिए कोई जगह राजनीति में नहीं बचती है। उन्होंने रविवार को जींद में अपनी नई जननायक जनता पार्टी की लांचिंग के मौके पर आयोजित समस्त हरियाणा सम्मेलन में लोगों की उत्साही भीड़ जुटाकर खुद को जननायक चौधरी देवीलाल के असली उत्तराधिकारी के रूप में स्थापित कर दिया। मंच से उन्होंने अपनी नई पार्टी का एक तरह से जो चुनावी घोषणा पत्र जनता के बीच प्रस्तुत किया,उसके जरिए वह जनता के तमाम वर्गों के लोगों को साधते हुए नजर आए।
रविवार को जींद में जननायक जनता पार्टी की लांचिंग के मौके पर आयोजित समस्त ह…