Monday, 26 December 2016

एचडीएफसी बैंक का सहायक मैनेजर ही निकला पांच लाख की लूट का सरगना: अभिषेक

एचडीएफसी बैंक का सहायक मैनेजर ही निकला पांच लाख की लूट का सरगना: अभिषेक
WWW.ATALHIND.COM

पुलिस ने किया लूट गिरोह का पर्दाफाश,बैंक के पांच लाख लूटने वाले बैंक कर्मचारी सहित तीन को किया गिरफ्तार, सहायक बैंक मैनेजर ने अपना उधार चुकता करने के लिए तैयार की योजना

कुरुक्षेत्र, 26 दिसंबर ।  एचडीएफसी बैंक के गांव सिंहपुरा के पास पांच लाख रुपए की लूट करने वाले गिरोह का सरगना खुद बैंक का सहायक मैनेजर ही निकला। पुलिस ने इस गिरोह का पर्दाफाश करते हुए सहायक मैनेजर सहित तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। अहम पहलू यह है कि सहायक मैनेजर ने अपने 40 हजार रुपए का उधार चुकता करने के लिए योजना तैयार की थी।


पुलिस अधीक्षक अभिषेक गर्ग ने सोमवार को एसपी कार्यालय में एचडीएफसी बैंक के पांच लाख रुपए लूट की घटना का खुलासा करते हुए पत्रकारों को बताया कि सीआईए-2 के अधिकारियों के प्रयासों से गत 22 दिसंबर को झांसा रोड़ पर गांव सिंहुपरा के पास से दो लोगों द्वारा देसी कट्टे के बल पर बैंक कर्मचारियों से पांच लाख रुपए की राशि लूटने के मामले को सुलझा लिया है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने शक के आधार पर बैंक के कर्मचारी रविंद्र कुमार निवासी गांव किरमच से पूछताछ शुरू की और इस कर्मचारी ने सारी घटना के बारे सच्चाई पुलिस के सामने रख दी। इस कर्मचारी ने स्वीकार किया इस कौलापुर शाखा  में पोस्टिंग के दौरान गांव कौलापुर के अवतार सिंह के साथ पैसा का लेनदेन करता था। इस के चलते वह अवतार सिंह के 40 हजार रुपए चुकता नहीं कर पाया। इस राशि को लेकर अवतार सिंह काफी तंग करने लगा। इस दौरान रविंद्र का तबादला गांव धराला की शाखा में होने पर भी अवतार सिंह का आना जाना लगा रहा। आरोपी रविंद्र ने अवतार को इस पहलू की भी जानकारी दी वह अकसर बैंक के कैैश को लेकर झांसा रोड पर दूसरी शाखा में जाता है।इस बीच रुपए को चुकता करने के लिए बैंक की राशि को लूटने की योजना तैयार की गई।

एसपी ने बताया कि इस योजना के आधार पर रविंद्र और अवतार ने अपने एक साथी राजदीप के साथ मिलकर 19 दिसंबर को कैश को लूटने की तारीख तय की लेकिन रविंद्र ने डर के चलते इस योजना को अमलीजामा नहीं पहनाया। आरोपी रविंद्र ने अपने साथियों के साथ मिलकर दोबारा 22 दिसंबर के दिन बैंक के पांच लाख रुपए लूटने की योजना तैयार की। इस योजना के अनुसार 22 दिंसबर को गांव सिंहपुरा के पास रविंद्र बैंक के गार्ड परमजीत सिंह के साथ पांच लाख रुपए लेकर अपनी निजी अपनी कार से पहुंचा। उसी समय अवतार सिंह व राजदीप ने योजना के अनुसार रविंद्र व गार्ड की आंखों में मिर्च डालकर पांच लाख लूट कर फरार हो गए और पुलिस बैंक कर्मी रविंद्र की शिकायत पर तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कर लिया था।


उन्होंने बताया कि आरोपी रविंद्र द्वारा लूट कर स्वीकार के बाद  पुलिस ने छानबीन को ओर तेजी से आगे बढ़ाया। पुलिस ने आरोपी अवतार सिंह को गांव कौलापुर और राजदीप को गांव काहनगढ़ से गिरफ्तार कर लिया है। एसपी ने बताया कि आरोपी रविंद्र ने यह भी स्वीकार किया है कि पांच में से एक लाख रुपए की राशि रास्ते में झांसा चुंगी के पास गार्ड परमजीत को किसी बहाने कार से उतार कर लूट से पहले ही अपनी जेब में डाल ली थी। पुलिस द्वारा अभी इस मामले की छानबीन जारी है
Post a Comment