Sunday, 22 January 2017

RAJKUMAR AGGARWAL

गलत बयानबाजी के चलते हरियाणा सरकार ने रॉकी मित्तल को हटाया 
 हरियाणा सरकार ने मुख्यंत्री के एडवाइजर (पब्लिसिटी) को हटा दिया है। कैथल के रहने वाले रॉकी मित्तल की नियुक्ति करीब चार महीने पहले ही हुई थी। अधिकारियों के साथ विवाद और सरकार के खिलाफ ही मीडिया में बयानबाजी के चलते रॉकी मित्तल की छुट्टी हुई है।
रॉकी मित्तल को एडवाइजर के पद पर नियुक्त करने के पीछे भी सरकार पर ‘दिल्ली दरबार’ का बड़ा दबाव था। हालांकि इससे पहले रॉकी मित्तल को कुरुक्षेत्र में हरियाणा सांस्कृतिक परिषद का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था लेकिन रॉकी मित्तल ने इस पद पर ज्वाइन करने से इंकार कर दिया था। इसके कुछ महीनों बाद सरकार ने मित्तल को एडवाइजर (ऑडियो-विजुअल) नियुक्त किया।
कैथल के डीसी के साथ भी उसका विवाद हो चुका है। यही नहीं, कैथल के डीसी के खिलाफ रॉकी मित्तल ने प्रेस कांफ्रेंस तक कर दी थी। इसके बाद उसने खेल एवं युवा मामले विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ़ केके खंडेलवाल के खिलाफ मीडिया में बयानबाजी की। सूचना, जनसंपर्क एवं सांस्कृतिक कार्य विभाग के अधिकारियों पर भ्रष्टाचार फैलाने के आरोप तक उसने जड़े।
  
विगत दिवस भी रॉकी मित्तल ने विभाग के अधिकारियों के खिलाफ इसी तरह का बयान दिया था। उसने यहां तक कहा था कि मुख्यमंत्री तो अच्छे इंसान हैं लेकिन अधिकारी मिलकर भ्रष्टाचार कर रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री, रॉकी मित्तल के इस रवैये से काफी दिनों से नाराज़ थे। सीएम के मीडिया एडवाइजर अमित आर्य के साथ भी रॉकी मित्तल की कहासुनी हो चुकी है।
अब सरकार ने रॉकी मित्तल को हटाने के आदेश जारी कर दिए हैं। सूत्रों का कहना है कि रॉकी मित्तल को दी गई बत्तीवाली कार और अन्य सुविधाएं भी वापस ले ली गई हैं। सीएम के प्रधान सचिव राजेश खुल्लर ने रॉकी मित्तल को हटाए जाने की पुष्टि की है। एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि सीएम ने शुक्रवार की रात्रि ही रॉकी मित्तल को हटाए जाने के निर्देश जारी कर दिए थे।
Post a Comment